Home / इतिहास

इतिहास

इस अनुभाग के अंतर्गत  भारत के प्राचीन इतिहास, मध्‍य कालीन इतिहास और आधुनिक इतिहास के बारे में जानकारी दी जायेगी।

जब भाईचारा था तो बंटबारा क्यों हुआ ?

जब भाईचारा था तो बंटबारा क्यों हुआ ?

 द्रविड़ों ने नहीं मांगा “द्रविड़-प्रदेश”, अनार्यों ने नहीं मांगा “अनार्यवृत”। पूर्वोत्तर के लोगों से पूछा जाता रहा कि आप कभी “इंडिया” आए हैं और वे मुस्कराकर कहते रहे कि हम “इंडिया” के ही तो हैं, उन्होंने कभी असंतोष से नहीं कहा कि हमें चाहिए सात राज्यों का एक पृथक “पूर्वांचल परिसंघ”! सिखों ने मांगा था “खालिस्तान”, दस साल सुलगे, शांत ... Read More »

तोप के गोलों से ही नहीं हिला ये किला, 20 टन के दरवाजे के लिए है प्रसिद्ध

तोप के गोलों से ही नहीं हिला ये किला, 20 टन के दरवाजे के लिए है प्रसिद्ध

भरतपुर के पूर्व राजा के बेटे और डीग से एमएलए विश्वेंद्र सिंह अपने जन्मदिन पर ही चर्चा का विषय बने रहे। भरतपुर. भरतपुर के पूर्व राजा के बेटे और डीग से एमएलए विश्वेंद्र सिंह अपने जन्मदिन पर ही चर्चा का विषय बने रहे। ये भरतपुर के एक अभेद किले के बारे में। मिट्टी से ढंकी इस किले की दीवार में ... Read More »

हिंदुओं से ये सब बातें छिपाई क्यों गई

हिंदुओं से ये सब बातें छिपाई क्यों गई

हम से छिपाई गई बाते जानने की जिज्ञासा हो तो  “हमें निष्पक्ष नजरिया रखते हुए”  अपनी पढ़ी हुई पढाई को – पीछे रखते हुए, सत्य को जानने के लिये – हमे ये जानना होगा, कब ,कहाँ और किस – किस “महापुरुष” ने — किस किस “विद्द्वान” ने — क्या क्या “कहा” और क्या क्या “लिखा” और क्या क्या “किया”। आप ... Read More »

आपातकाल का अत्‍याचार आत्‍मा को कंपा दिया था

आपातकाल का अत्‍याचार आत्‍मा को कंपा दिया था

1975 की तपती गर्मी के दौरान अचानक भारतीय राजनीति में भी बेचैनी दिखी. यह सब हुआ इलाहाबाद हाई कोर्ट के उस फैसले से जिसमें इंदिरा गांधी को चुनाव में धांधली करने का दोषी पाया गया और उन पर छह वर्षों तक कोई भी पद संभालने पर प्रतिबंध लगा दिया गया था। लेकिन इंदिरा गांधी ने इस फैसले को मानने से ... Read More »

गांधी की सच्चाई अवश्य जानें

गांधी की सच्चाई अवश्य जानें

प्रथम विश्व युद्ध में जब स्थिति बदली तो तुर्की अंग्रेजों के विरुद्ध और जर्मनी के पक्ष में हो गया। विश्व युद्ध में जर्मनी की पराजय के पश्चात अंग्रेजों ने तुर्की को मजा चखने के लिए तुर्की को विघटित कर दिया। अंग्रेज तुर्की के खलीफा के विरोध में सामने आ गए। मुसलमान खलीफा को अपना नेता मानते थे। उनमे अंग्रेजों के ... Read More »

जो कौमें अपना इतिहास भूल जाती हैं.. उनका कोई भविष्य नहीं हुआ करता.. !!

जो कौमें अपना इतिहास भूल जाती हैं.. उनका कोई भविष्य नहीं हुआ करता.. !!

“मुस्लिम कौम इतनी निर्दयी हो सकती है कोई सोच भी नहीँ सकता था”… पहली ट्रेन पाकिस्तान से – अगस्त 15, 1947 की सुबह का स्वतंत्र सूर्य #उदय हो चुका था.. अमृतसर का लाल इंटो वाला वो रेलवे स्टेशन अच्छा खासा शरणार्थियों कैम्प बना हुआ था! पंजाब के पाकिस्तानी हिस्से से भागकर आये हुए हज़ारों हिन्दुओ-सिखों को यहाँ से दूसरे ठिकानों ... Read More »

जो कौमें अपना इतिहास भूल जाती हैं.. उनका कोई भविष्य नहीं हुआ करता.. !!

जो कौमें अपना इतिहास भूल जाती हैं.. उनका कोई भविष्य नहीं हुआ करता.. !!

“मुस्लिम कौम इतनी निर्दयी हो सकती है कोई सोच भी नहीँ सकता था”… पहली ट्रेन पाकिस्तान से – अगस्त 15, 1947 की सुबह का स्वतंत्र सूर्य #उदय हो चुका था.. अमृतसर का लाल इंटो वाला वो रेलवे स्टेशन अच्छा खासा शरणार्थियों कैम्प बना हुआ था! पंजाब के पाकिस्तानी हिस्से से भागकर आये हुए हज़ारों हिन्दुओ-सिखों को यहाँ से दूसरे ठिकानों ... Read More »

देश तोड़ने के लिए गद्दारों की तिकड़ी

देश तोड़ने के लिए गद्दारों की तिकड़ी

दलित+मुस्लिम गठजोर के कारण ही पाकिस्तान बना था। वही खेल मायावती, केजरी और कॉंग्रेस फिर खेल रहे हैं भारत को दुबारा तोड़ने के लिए। जब पाकिस्तान बना तो लाखो हिन्दू पाकिस्तान चले गये इनमे से अधिकतर हमारे दलित भाईओं के परिवार थे जिन्हें विश्वास था मुसलमान उनका साथ देंगे, उन्हें अपनाएंगे | लेकिन उनके साथ क्या हुआ, इसे जानना जरूरी ... Read More »

ये थे असली बाहुबली हिन्दू सम्राट मिहिर भोज, जिसके नाम से थर थर कापते थे अरबी और तुर्क !

ये थे असली बाहुबली हिन्दू सम्राट मिहिर भोज, जिसके नाम से थर थर कापते थे अरबी और तुर्क !

आपने बाहुबली फिल्म तो देखी होगी , लेकिन क्या आपको अंदाजा है भारत में एक महान हिन्दू सम्राट हुए है जिन्होंने पूरी जिन्दगी अरब आक्रान्ताओं से टक्कर ली और हिन्दू धर्म की रक्षा की ! इनके शासनकाल में ही भारत को सोने की चिड़िया बोला जाता था | सम्राट मिहिर भोज ने 836 ईस्वीं से 885 ईस्वीं तक 49 साल ... Read More »

4 साल के बेटे का जिगर निकाल कर उसके बाप के मुँह में डाल दिया, फिर भी नहीं किया इस्लाम कबूल, समझ नही आता-यह शहादत इतिहास से गायब क्यों है!

4 साल के बेटे का जिगर निकाल कर उसके बाप के मुँह में डाल दिया, फिर भी नहीं किया इस्लाम कबूल, समझ नही आता-यह शहादत इतिहास से गायब क्यों है!

भारत के स्वतंत्रता संग्राम में अठारहवीं शताब्दी के शुरू में ही हुईं दो लड़ाइयां अपना ऐतिहासिक महत्त्व रखती हैं। इन दोनों लड़ाइयों ने पश्चिमोत्तर भारत में विदेशी मुगल वंश के कफन में कील का काम किया। ये लडाइयां थीं-पंजाब में सरहिंद और गुरदास नंगल की लड़ाई। इन दोनों लड़ाइयों का नेतृत्व बंदा सिंह बहादुर ने किया। बंदा सिंह बहादुर को ... Read More »