Home / सच्चाई / इस्लाम / यूपी: ससुर के साथ संबंध बनाने से इनकार पर पत्नी को दिया तीन तलाक, पीएम-सीएम को दीं गालियां

यूपी: ससुर के साथ संबंध बनाने से इनकार पर पत्नी को दिया तीन तलाक, पीएम-सीएम को दीं गालियां

पीड़िता ने आरोप लगाया है कि ससुराल वालों ने उसपर अपने सौतेले ससुर मोहम्मद सलीम से संबंध बनाने का दबाव बनाना शुरू कर दिया।

उत्तर प्रदेश के शाहजहांपुर में सुप्रीम कोर्ट की रोक के बावजूद तीन तलाक का एक मामला सामने आया है। यहां एक महिला के अपने ससुर के साथ संबंध बनाने से इनकार पर उसे उसके शौहर ने तीन तलाक दे दिया। नवभारत टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार, जिले के लोधीपुर इलाके में रहने वाली महिला ने आरोप लगाया कि उसके ससुरालवालों ने उसकी जमकर पिटाई की और घर से बाहर कर दिया। ससुरालियों ने पीड़िता के कपड़े तक फाड़ दिये। यही नहीं, उसके पति ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के लिए भद्दी गालियों का प्रयोग किया। महिला ने अपने साथ हुए कथित दुर्व्यवहार की शिकायत रोजा पुलिस थाने में दर्ज कराया है। पीड़िता के पिता द्वारा पुलिस से शिकायत में जानकारी दी गई है कि करीब साल भर पहले महिला की शादी आरोपी इमरान खां से हुई थी। उस समय करीब पांच लाख रुपये बतौर दहेज भी दिया गया था। आरोप है कि शादी के कुछ दिन गुजरते ही ससुराल वाले इमरान को नौकरी दिलाने के नाम पर पीड़िता के परिवार से रुपयों की मांग करने लगे। शिकायत में कहा गया है कि मांग का विरोध करने पर महिला को बुरी तरह पीटा गया।

पीड़िता ने आरोप लगाया है कि उसके ससुराल वालों ने उसपर अपने सौतेले ससुर मोहम्मद सलीम से संबंध बनाने का दबाव बनाना शुरू कर दिया। इनकार करने पर महिला को तरह-तरह से प्रताड़ित किया गया। महिला के पिता का आरोप है कि बीती 28 सितंबर को आरोपी ससुरालवालों ने उन्हें फोन कर कहा कि वे अपनी बेटी ले जाएं वर्ना वे उसकी हत्या कर देंगे।

सर्वोच्च न्यायालय ने 22 अगस्त को अपने फैसले में तीन तलाक की प्रथा को असंवैधानिक करार दिया था। तीन तलाक पर फैसला सुनाने वाले पांच न्यायाधीशों में से दो का प्रथा की वैधानिकता पर मत भिन्न था। पीठ ने हालांकि एकमत से फैसला सुनाते हुए सरकार को मुस्लिम विवाह और तलाक को लेकर कानून बनाने का निर्देश दिया।

Source : Jansatta

About Akhil Bharat Hindu Mahasabha

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*