Home / हमारे पूर्वज

हमारे पूर्वज

इस अनुभाग में प्राचीन काल से अब तक के पूर्वजों के बारे में विस्‍तृत जानकारी दी जायेगी। पाठकों को दिक्‍कत न हो इसके लिये इसे तीन अनुभागों में विभक्‍त कर दिया गया है।

 

ये थे असली बाहुबली हिन्दू सम्राट मिहिर भोज, जिसके नाम से थर थर कापते थे अरबी और तुर्क !

ये थे असली बाहुबली हिन्दू सम्राट मिहिर भोज, जिसके नाम से थर थर कापते थे अरबी और तुर्क !

आपने बाहुबली फिल्म तो देखी होगी , लेकिन क्या आपको अंदाजा है भारत में एक महान हिन्दू सम्राट हुए है जिन्होंने पूरी जिन्दगी अरब आक्रान्ताओं से टक्कर ली और हिन्दू धर्म की रक्षा की ! इनके शासनकाल में ही भारत को सोने की चिड़िया बोला जाता था | सम्राट मिहिर भोज ने 836 ईस्वीं से 885 ईस्वीं तक 49 साल ... Read More »

आज़ाद भारत के वैचारिक समन्वयक बाबा साहब

आज़ाद भारत के वैचारिक समन्वयक बाबा साहब

बाबा साहब भीमराव अंबेडकर जयंती विशेष: धरती जब किसी चरित्रवान् नेतृत्व को जन्म देती है तो निश्चित तौर पर यह नेतृत्व का ही मान नहीं होता बल्कि धरती का भी गौरव स्थापित होता है | एसा ही एक गौरव मालवा की धरती को भी मिला बाबा साहब के रूप में | चौदह अप्रैल 1891 को महू में सूबेदार रामजी शकपाल ... Read More »

राम नवमी 2017: इस तरह से करेंगे पूजा-अर्चना तो पूरे होंगे आपके हर काम, ये है पूजा का शुभ मुहूर्त

राम नवमी 2017: इस तरह से करेंगे पूजा-अर्चना तो पूरे होंगे आपके हर काम, ये है पूजा का शुभ मुहूर्त

Ram Navami Puja: ऐसा माना जाता है कि भगवान राम का जन्म मध्यान्ह काल में व्याप्त नवमी तिथि को पुष्य नक्षत्र में हुआ था। महाभारत वनपर्व के अनुसार पुनर्वसु नक्षत्र में राम का जन्म होना लिखा है। देशभर में नौ दिनों तक चले नवरात्र महोत्सव का 5 अप्रैल को समापन हो जाएगा। इस दिन को रामनवमी के नाम से जाना ... Read More »

मिलिए उन ‘शेरनी’ माताओं से जिन्होने वीर क्रांतिकारी सपूतों को जन्म दिया

मिलिए उन ‘शेरनी’ माताओं से जिन्होने वीर क्रांतिकारी सपूतों को जन्म दिया

“मां मेरी लाश लेने आप मत आना, कुलबीर को भेज देना वरना आपको रोता देख लोग कहेंगे देखो भगत सिंह की मां रो रही है।” भगत सिंह अक्सर ही यह बात मज़ाक में अपनी मां से कहा करते थे। इस बात में भगत सिंह का वो जज़्बा भी दिखता था कि उनके रगों में देशभक्ति लहू बन कर दौड़ती है। ... Read More »

वीर हुतात्‍मा हकीकत राय का जन्‍मदिन हिंदुओं को याद रखना चाहिए

वीर हुतात्‍मा हकीकत राय का जन्‍मदिन हिंदुओं को याद रखना चाहिए

पंजाब के सियालकोट मे सन् 1724 मे जन्में वीर हकीकत राय जन्म से ही कुशाग्र बुद्धि के बालक थे। उनके पिता भाई भाग मॉल खत्री थे और माता गोरान थी। उनके नाना-नानी सिख थे और वह सरदार किशन सिंह की बेटी दुर्गा लक्ष्मी देवी से बाल विवाहित थे । बालक हकीकत राय अपनी मां के प्रभाव की वजह से शुरू ... Read More »

राजा ययाति- पुत्र से मांग ली उसकी जवानी

राजा ययाति- पुत्र से मांग ली उसकी जवानी

महाभारत में यह घटना राजा ययाति के जीवन से संबंधित है। जिन्हें शुक्राचार्य ने एक ऐसा श्राप दिया जिसकी वजह से उन्होंने अपनी जवानी ही खो दी थी। असुर गुरु शुक्राचार्य मृतसंजीवनी, ऐसी दवा जो मृत इंसान को भी जीवित कर सकती है, के रहस्य को जानते थे, इसलिए वृशपर्व उनका बहुत सम्मान करते थे। शुक्राचार्य की एकमात्र संतान देवयानी ... Read More »

गुरुओं के इतिहास में ‘गुरु शिरोमणि’ हैं गुरु गोबिंद सिंह

गुरुओं के इतिहास में ‘गुरु शिरोमणि’ हैं गुरु गोबिंद सिंह

अन्‍याय और अत्याचार के खिलाफ जब-जब जंग लड़ने वालों का नाम स्मरण किया जाएगा, तब-तब गुरु गोबिंद सिंह का नाम अनिवार्य रूप से जुबां पर आ ही जाएगा. हाल फिलहाल, गुरु जी की 350वीं जयंती मनाने के उपलक्ष्य में देशभर में कार्यक्रम हो रहे हैं, जो साल भर तक चलने वाले हैं, तो यह अवसर हमारे लिए इसलिए महत्वपूर्ण है ... Read More »

नेताजी सुभाषचंद बोस के बॉडीगार्ड रामफल नहीं रहे, 108 वर्ष की आयु में निधन

नेताजी सुभाषचंद बोस के बॉडीगार्ड रामफल नहीं रहे, 108 वर्ष की आयु में निधन

     नेताजी सुभाष चंद बोस के बॉडी गार्ड रहे आजाद हिंद फौज के जवान रामफल सिंह का 108 साल की आयु में मंगलवार रात को निधन हो गया। औलेढ़ा गांव में उनका राजकीय सम्मान के साथ अंतिम संस्कार किया गया।      इस दौरान क्षेत्र के हजारों लोग मौजूद रहे। वह दो दशक तक नेताजी का दर्शन करने के ... Read More »

जिसके साथ भगवान हों

जिसके साथ भगवान हों

      सिंधुराज जयद्रथ के जन्मकाल में ही आकाशवाणी ने यह सुना दिया था कि यह बालक क्षत्रियों में श्रेष्ठ और शूरवीर होगा। परंतु अंत समय में कोई क्षत्रीय वीर शत्रु होकर क्रोधपूर्वक इसका मस्तक काट लेगा। यह सुनकर उसके पिता वृद्धक्षत्र पुत्र स्नेह से प्रेरित होकर बोले- जो वीर इसका मस्तक काटकर जमीन पर गिरा देगा, उसके सिर ... Read More »

सती अनसूया

सती अनसूया

     भारतवर्ष की सती-साध्वी नारियों में अनसूया जी का स्थान बहुत ऊंचा है। इनका जन्म अत्यन्त उच्च कुल में हुआ था। ब्रह्माजी के मानस पुत्र परम तपस्वी महर्षि अत्रि को इन्होंने पति के रूप में प्राप्त किया था। अपनी सतत सेवा तथा प्रेम से इन्होंने महर्षि अत्रि के हृदय को जीत लिया था।      भगवान को अपने भक्तों ... Read More »