Home / राष्ट्रवाद / राष्ट्रवादी लेख

राष्ट्रवादी लेख

ये थे असली बाहुबली हिन्दू सम्राट मिहिर भोज, जिसके नाम से थर थर कापते थे अरबी और तुर्क !

ये थे असली बाहुबली हिन्दू सम्राट मिहिर भोज, जिसके नाम से थर थर कापते थे अरबी और तुर्क !

आपने बाहुबली फिल्म तो देखी होगी , लेकिन क्या आपको अंदाजा है भारत में एक महान हिन्दू सम्राट हुए है जिन्होंने पूरी जिन्दगी अरब आक्रान्ताओं से टक्कर ली और हिन्दू धर्म की रक्षा की ! इनके शासनकाल में ही भारत को सोने की चिड़िया बोला जाता था | सम्राट मिहिर भोज ने 836 ईस्वीं से 885 ईस्वीं तक 49 साल ... Read More »

मिलिए उन ‘शेरनी’ माताओं से जिन्होने वीर क्रांतिकारी सपूतों को जन्म दिया

मिलिए उन ‘शेरनी’ माताओं से जिन्होने वीर क्रांतिकारी सपूतों को जन्म दिया

“मां मेरी लाश लेने आप मत आना, कुलबीर को भेज देना वरना आपको रोता देख लोग कहेंगे देखो भगत सिंह की मां रो रही है।” भगत सिंह अक्सर ही यह बात मज़ाक में अपनी मां से कहा करते थे। इस बात में भगत सिंह का वो जज़्बा भी दिखता था कि उनके रगों में देशभक्ति लहू बन कर दौड़ती है। ... Read More »

महान हिन्दू सम्राट जिन्होंने इस्लामिक आक्रमणकारियों को पराजित कर उनके खून से अपवित्र हुयी भूमि पर शुद्धि यज्ञ करवाया था

महान हिन्दू सम्राट जिन्होंने इस्लामिक आक्रमणकारियों को पराजित कर उनके खून से अपवित्र हुयी भूमि पर शुद्धि यज्ञ करवाया था

भारतीय इतिहास में ऐसे महान योद्धा हुए हैं जिन्होंने अपने शौर्य और पराक्रम से इतिहास की धारा मोड़ दी थी। ऐसे ही एक महान राजा थे विग्रहराज चतुर्थ जिन्हें वीसलदेव के नाम से भी जाना जाता है। जो चौहान वंश (चाहमान वंश) के महान प्रतापी राजा अर्णोराज के पुत्र थे। सम्राट विग्रहराज चतुर्थ उस समय भारत के महानतम प्रतापी एवं ... Read More »

धर्म क्या है ? हिंदु और हिंदुत्व क्या है ?

धर्म क्या है ? हिंदु और हिंदुत्व क्या है ?

डॉ0 संताेेष राय जो में कह रहा हूँ वह प्रमाणिक और सत्य है वीर सावरकर ने हिन्दू और हिंदुत्व की सही व्याख्या की है “आसिंधु सिंधु पर्यन्ता, यस्य भारतभूमिका । पितृभू: पुण्यभूश्चैव स वै हिंदुरिति स्मृत:” ॥ सिन्धु नदी से लेकर हिंद महासागर तक पर्यंत फैली हुई भूमि को जो व्यक्ति अपनी पितृभूमि(पूर्वजों की भूमि) व पुण्यभूमि मानता है वह ... Read More »

गुरुओं के इतिहास में ‘गुरु शिरोमणि’ हैं गुरु गोबिंद सिंह

गुरुओं के इतिहास में ‘गुरु शिरोमणि’ हैं गुरु गोबिंद सिंह

अन्‍याय और अत्याचार के खिलाफ जब-जब जंग लड़ने वालों का नाम स्मरण किया जाएगा, तब-तब गुरु गोबिंद सिंह का नाम अनिवार्य रूप से जुबां पर आ ही जाएगा. हाल फिलहाल, गुरु जी की 350वीं जयंती मनाने के उपलक्ष्य में देशभर में कार्यक्रम हो रहे हैं, जो साल भर तक चलने वाले हैं, तो यह अवसर हमारे लिए इसलिए महत्वपूर्ण है ... Read More »

अगर मुसलमान हो गए तो फिर कभी नहीं मरेंगे न?

अगर मुसलमान हो गए तो फिर कभी नहीं मरेंगे न?

इतिहास में बहुत कम मिसाल मिलेंगी… जब किसी बाप ने कौम के लिए… राष्ट्र के लिए… एक हफ्ते में अपने 4–4 बेटे क़ुर्बान कर दिए हों. आज पूस का वो आठवां दिन था जब दशम् गुरु श्री गुरु गोविन्द सिंह जी महाराज के दो साहबजादे चमकौर साहब के युद्ध में शहीद हो गए। बड़े साहबजादे श्री अजीत सिंह जी की ... Read More »

‘ॐ’ आपकी ज़िंदगी इस तरह से बदल सकता, जिसकी कल्पना भी नहीं कर सकते!

‘ॐ’ आपकी ज़िंदगी इस तरह से बदल सकता, जिसकी कल्पना भी नहीं कर सकते!

‘ॐ’ आपकी ज़िंदगी इस तरह से बदल सकता, जिसकी कल्पना भी नहीं कर सकते! संपूर्ण ब्रह्मांड का प्रतीक है ओंकार. दुनिया के सभी मंत्रों का सार है ओमकार. ब्रहमा, विष्णु और महेश का प्रतीक है ओंकार. ओंकार ध्वनी से 100 से भी अधिक अर्थ दिए गए हैं, जो भी ॐ का उच्चारण करता है, उसके आसपास सकारात्मक शक्ति का संचार ... Read More »

ये SIMI के लिए रोते हैं, ग्रेवाल के लिए रोते हैं लेकिन शहीद मंदीप सिंह के लिए नहीं रोते, क्यों?

ये SIMI के लिए रोते हैं, ग्रेवाल के लिए रोते हैं लेकिन शहीद मंदीप सिंह के लिए नहीं रोते, क्यों?

New Delhi, 4 November: हमारे देश की राजनीतिक भी क्या खूब है, यहाँ पर सब कुछ वोटबैंक देखकर किया जाता है, हमारे देश के कुछ नेता वोटबैंक देखकर अपना कदम उठाते हैं, हमारे देश में ऐसे ऐसे नेता हैं जो वोटबैंक देखकर SIMI आतंकियों के लिए रोने लगते हैं और आतंकियों का एनकाउंटर करने वाले सिपाहियों के मनोबल को तोड़ते ... Read More »

जेलों की सुरक्षा कैसी होनी चाहिए ?

जेलों की सुरक्षा कैसी होनी चाहिए ?

     आतंकवाद और आतंरिक उपद्रव के दौर में हमारी जेलों की सुरक्षा कैसी होनी चाहिए? क्या इस पर केन्द्रीय और राज्य सरकारों द्वारा दशा-दिशा तय नहीं किया जाना चाहिए? क्या यह सही नहीं है कि हमारी जेलें पुरातन समय की सुरक्षा पद्धति पर ही चल रही हैं? क्या यह सही नहीं है कि कैदियों की संख्या के अनुसार हमारी ... Read More »

जब ओवैसी के दादा को पटेल ने जेल में ठूंस दिया था

जब ओवैसी के दादा को पटेल ने जेल में ठूंस दिया था

 13 सितम्बर 1948 को भारत में पहली बार इमरजेंसी जैसी स्थिति बनी. ये 1975 की इंदिरा इमरजेंसी से अलग थी. इस दिन भारत के 36 हज़ार सैनिकों ने हैदराबाद में डेरा डाला. 13 से लेकर 17 सितम्बर तक भयानक क़त्ल-ए-आम हुआ. कहा गया कि हजारों लोगों को लाइन में खड़ा कर गोली मार दी गई. आर्मी ने इसे ‘ऑपरेशन पोलो’ ... Read More »