Home / मीडिया / जनमंच / हिन्दू महासभा की नेता साक्षी भारद्वाज को जान से मारने व बलात्कार करने की खालिस्तानी आतंकियों की धमकी

हिन्दू महासभा की नेता साक्षी भारद्वाज को जान से मारने व बलात्कार करने की खालिस्तानी आतंकियों की धमकी

साक्षी भारद्वाज अखिल भारत हिन्दू महासभा की छात्र शाखा हिन्दू विद्यार्थी सभा की दिल्ली प्रदेश अध्यक्ष हैं। जेएनयू से इन्होंने जियोग्राफी विषय में पोस्ट ग्रेजुएट किया है। इन्होंने पहले भी बहुत सारे आतंकियों, नक्सलियों और माओवादियों के खिलाफ संघर्ष किया है। और, उपरोक्त में कुछ ऐेसे खालिस्थान समर्थक तत्व थे जो नक्सलियों का साथ दे रहे थे। पिछले छह महीने से पंजाब, दिल्ली, कनाडा व अन्य भाग से साक्षी को फेसबुक पर खालिस्थान समर्थकों नें जान से मारने, बलात्कार की धमकी लगातार देते रहे जिसकी सूचना समय-समय पर इन्होंने दिल्ली पुलिस को देती रहीं।

गत दिनों साक्षी नें राष्ट्रद्रोही खालिस्तानी समर्थकों पर लेख लिखा था जिससे ये उपरोक्त समर्थक भड़क उठे जो अपने को तथाकथित सिख गुरूओं का अनुयायी कहते हैं जिन्हें सिखी का अल्प ज्ञान भी नहीं है।

ज्ञात रहे कि उपरोक्त खालिस्तानी समर्थक भाजपा, कांग्रेस, आम आदमी पार्टी और अकाली दल में अपने स्वरूप को छिपाकर कार्यरत हैं। उपरोक्त अराजक लोग  हिन्दू और सिखों की साझी विरासत को समाप्त करना चाहते हैं और गुरूओं की परम्परागत विरासत को कलंकित करना चाहते हैं।

इधर भाजपा में खालिस्तानी समर्थक मनजिन्दर सिंह सिरसा जो राजौरी गार्डेन से भाजपा के विधायक हैं, उन्होंने भी साक्षी भारद्वाज को भारतीय परम्परा का हनन करते हुए उसका अपमान किया और उसे मारने की फेसबुक में धमकी दी जिनके विरूद्ध साक्षी भारद्वाज नें थाना बसंत बिहार में शिकायत दर्ज कराई।

मनजिन्दर सिंह सिरसा भाजपा के तथाकथित खालिस्तानी मानसिकता के विधायक के इशारे पर जम्मू में तेजिंदर पाल सिंह ने थाना गांधी नगर जम्मू में साक्षी भारद्वाज के विरूद्ध शिकायत दर्ज करवाई कि इसने सिख गुरूओं का अपमान किया है जो कि जम्मू में पहले भी वह खालिस्तान के समर्थन में कार्यक्रम कर चुका है और वो नेशनल कांफ्रेंस का नेता भी है, उपरोक्त की फेसबुक पर खालिस्तान जिन्दाबाद के पोस्ट भी हैं।

इतना ही नहीं जम्मू-कश्मीर पुलिस पूरे लाव-लश्कर के साथ दिनांक 30 अगस्त, 2017 को खालिस्तानी समर्थकों के साथ में लेकर हिन्दू महासभा कार्यालय आ पहुंची और हिन्दू महासभा के नेता डॉ0 संतोष राय से साक्षी भारद्वाज के बारे में पूछ-ताछ की तो श्रीराय नें  कहा कि साक्षी भारद्वाज हिन्दू महासभा की शरण में हैं, हिन्दू महासभा नें उपरोक्त मामले की स्वयं जांच कराई जिसमें उसने पाया कि साक्षी भारद्वाज ने सिख परंपरा का अपमान नहीं किया है बल्कि वो तथाकथित खालिस्तानी द्वारा सताई गई पीड़िता हैं जिसकी समय-समय पर दिल्ली पुलिस को सूचना दी गई है।

सनद रहे कि पिछले कुछ वर्षों से सिख पंथ दो भागों में विभाजित  हो गया है। एक वर्ग राष्ट्रवादी है तो दूसरा वर्ग खालिस्तानी समर्थक हैं। इतना ही नहीं, ये खालिस्तानी समर्थक जरा-जरा सी बात पर किसी को भी जान से मारने की धमकी, जबरन गुण्डागर्दी और बलात्कार करने तक की धमकी तक देते हैं।

और तो और, जम्मू-कश्मीर पुलिस का रवैया भी खालिस्तानियों जैसा ही है। जम्मू-कश्मीर पुलिस को दो टूक शब्दों में डॉ0 संतोष राय ने बता दिया कि वो साक्षी भारद्वाज को जम्मू-कश्मीर पुलिस के हवाले नहीं करेंगे और आगे उन्हें अच्छी तरह बता दिया कि वे संवैधानिक प्रक्रिया अपनाएं और साक्षी को ले जाएं जिसमें दिल्ली के अदालत की आज्ञा लेना अत्यंत आवश्यक है।

और, जब हिन्दू महासभा की एक समिति नें उपरोक्त साक्षी भारद्वाज मसले पर गहराई से जांच की तो पाया कि जम्मू-कश्मीर, पंजाब एवं दिल्ली में खालिस्तान समर्थकों का एक समूह तैयार हो रहा है जो कि सनातन धर्म एवं हिन्दू संस्कृति पर आए दिन फेसबुक पर भद्दे कमेंट लिखते रहते हैं और गालियां देते रहते हैं जो कि सिख परंपरा और उनके गुरूओं का अपमान भी है। आगे डॉ0 संतोष राय नें कहा कि जो लोग अपने आप को सिख कहकर ऐसा कुकृत्य करते हैं वो सिख हो ही नहीं सकते। उपरोक्त खालिस्तानी मानसिकता के लोग जब तर्क नहीं कर पाते तो कुतर्क करके जान से मारने की धमकी, बलात्कार की धमकी इत्यादि पर उतारू हो जाते हैं, जो कि सच्चा सिख ऐसा कदापि नहीं कर सकता।

ज्ञात रहे कि सुखराज निज्जर, जो की गुरजीत सिंह औजला, कांग्रेस सांसद अमृतसर, का भतीजा है और उक्त प्रकरण का मास्टर माइंड भी है, इसने साक्षी भारद्वाज को कहा था की इंदिरा गांधी तुम हिन्दुओं की माँ थी उसे हमने निपटा दिया था तो तुम किस खेत की मूली हो।

sakshi-in-twitter

इस समय हिन्दू महासभा साक्षी भारद्वाज को सुरक्षित स्थान पर रख चुकी है तथा उसे कानूनी सहायता भी देगी।         और, जो लोग सिख पंथ को बदनाम करके, अलगाववाद को बढ़ावा देकर देश को गर्त में ले जा रहे हैं उन पर भी महासभा कानूनी कार्यवाही करेगी।

हिन्दू महासभा किसी तोड़-फोड़ व हिंसा, दंगे करने में विश्वास नहीं रखती। महासभा का मानना है कि हिन्दू-सिख संस्कृति एक साझी विरासत है, जिसे वे किसी भी कीमत पर समाप्त नहीं होने देंगे। इसके साथ साक्षी भारद्वाज प्रकरण पर जम्मू-कश्मीर पुलिस पर भी हिन्दू महासभा कानूनी कार्यवाही करेगी।

यदि जम्मू, पंजाब दिल्ली में कोई भी पीड़ित है उसे सुरक्षा व हर तरह की सहायता प्रदान की जाएगी जिसके लिए हिन्दू महासभा संकल्पबद्ध है।

About Akhil Bharat Hindu Mahasabha

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*