Home / हिन्दू महासभा / दैनिक गतिविधियाँ / पदमाराम जांगिड बने राजस्‍थान हिन्‍दू महासभा के अध्‍यक्ष

पदमाराम जांगिड बने राजस्‍थान हिन्‍दू महासभा के अध्‍यक्ष

राजस्‍थान  हिन्‍दू महासभा का पुनर्गठन

जयपुर । गत दिनों  पं0 बाबा नंद किशोर के नेतृत्‍व में पदमाराम जांगिड (इन्‍द्रोई) को राजस्‍थान प्रदेश का अध्‍यक्ष नियुक्‍त किया गया। तत्‍पश्‍चात पदमराम जी ने भी कुछ तेजतर्रार लोगों को अपने टीम में शामिल कर लिया जिनमें प्रमुख पदाधिकारी हैं : राजस्‍थानी कार्यकारी अध्‍यक्ष के रूप में नटवर लाल शर्मा जो सेवा निवृत्‍त पुलिस अधीक्षक रह चुके हैं। वहीं लीलाधर दीक्षित को प्रदेश महामंत्री बनाया गया है।

इस शुभ अवसर पर नवनियुक्‍त राजस्‍थान के अध्‍यक्ष पदमा राम जांगिड ने बंगाल में हिंदुओं के नरसंहार पर ममता बनर्जी पर आक्रोश व्‍यक्‍त करते हुए कहा कि ममता बानो को आने वाले समय बुरे परिणाम के लिए तैयार रहना चाहिए। आगे पदमाराम ने  कहा कि हिन्‍दू महासभा ममता का किला ढहाने के लिए किसी भी सीमा तक जाएगी।

वहीं, नटवर लाल शर्मा ने कहा कि इस देश को जनसंख्‍या नियंत्रण कानून की सख्‍त आवश्‍यकता है इसलिए मोदी सरकार को बिना देर किये उपरोक्‍त कानून अति शीघ्र लागू करवाना चाहिए।

जबकि राजस्‍थान प्रदेश महामंत्री  लीलाधर दीक्षित ने कहा कि भारत सरकार को कश्‍मीर समस्‍या के मूल जड़ को समाप्‍त करने के लिए धारा 370 अविलंब समाप्‍त कर देना चाहिए तभी कश्‍मीर समस्‍या का हल होगा।

अखिल भारत हिन्‍दू महासभा के कार्यकारी अध्‍यक्ष पं0 बाबा नंद किशोर मिश्रा ने पदमाराम जांगिड को राजस्‍थान के नए टीम के गठन पर बधाई देते हुए कहा कि हमें पूर्ण विश्‍वास है कि पदमाराम जी वीर सावरकर व नाथूराम गोडसे के सपनों को साकार करेंगे और अखण्‍ड भारत के नवनिर्माण में अपना अमूल्‍य योगदान देंगे।

पाकिस्‍तानी हिंदुओं को न्‍याय दिलाने में पदमाराम जी का था बड़ा  योगदान

   पाकिस्‍तानी हिंदुओं को न्‍याय दिलाने में पदमाराम जी का था बड़ा  योगदान था। उन दिनों पाकिस्‍तान के कुछ हिंदू पाकिस्‍तानी जेहादी मुसलमानों से तंग आकर भारत आए थे लेकिन यहां उनके अपने ही लूटने की योजना बना डाले थे पर पदमाराम जी अटूट मेहनत व  साहस ने अपना रंग दिखाया और उन हिंदुओं को पदमाराम जी ने न्‍याय दिलवाया। इस घटना को जानने के लिए हम आपको थोड़ा पीछे ले चलते हैैं :

     ज्ञात हो कि अखिल भारत हिन्‍दू महासभा के नेतृत्‍व में 1 अक्‍टूबर, 2016 को ऐतिहासिक सफलता प्राप्‍त की गई थी। मामला ये था कि पाकिस्‍तान से कुछ हिंदू  समूह बनाकर सन् 2014 में अपनी जान-माल व सम्‍मान  के  रक्षा हेतु मुनाबाब के रास्‍ते वैध रूप से हिंदुस्‍तान आ रहे थे, जिन्‍हें सीमा शुल्‍क के कुछ अधिकारियों नें रोक लिया और इनके पास कुल 1 किलो, 250 ग्रॉम सोना मिला जिसे उपरोक्‍त अधिकारियों नें जब्‍त कर लिये। काफी लंबे संघर्ष के बाद पाकिस्‍तानी हिंदुओं के जब्‍त सोने को वापस दिलाये गये।

munabao

     सनद रहे कि जब उपरोक्‍त पाकिस्‍तानी हिंदुओं को सीमा शुल्‍क के अधिकारियों नें जब पकड़ा तो उसमें वे इन हिंदुओं को यह दिखाया कि ये सोने के गहने पहने थे व छिपाये थे। जबकि  बाद में हिंदू महासभा के वरिष्‍ठ नेता पं बाबा नंद किशोर मिश्र, पदमाराम जांगीड़ व सरदार रविरंजन सिंह के भारी दबाव में जांच हुई तो कस्‍टम विभाग के उच्‍च अथारिटी के जांच में यह बात सामने आई कि  दो में से एक चीज हो सकती है, वो ये कि पाकिस्‍तानी हिन्‍दू या तो आभूषण पहने होंगे या छिपाये होंगे। सनद रहे कि यदि कोई हाथ में कड़ा आदि  पहनता है तो  पूरी बाह के कपड़े पहनने पर वह कड़ा ढँक जाता  है तो उसमें कोई क्‍या कर सकता है। अंतत: यह निर्णय हुआ कि ये पाकिस्‍तानी आभूषण पहने थे।

badmer-baba

सच्‍चाई कुछ और थी  

     सच यह है कि कस्‍टम विभाग के कुछ भ्रष्‍ट अधिकारियों नें जब उनके आभूषण को पकड़ा तो इनके सोने को सरकारी रिकॉर्ड में पूर्णरूपेण शुद्ध नहीं बताया ज‍बकि उनके सोने के आभूषण शत प्रतिशत पूर्णरूपेण शुद्ध थे।

ravi-singh-on-custom-office

     सीमा शुल्‍क के अधिकारी लूट-घसोट करने के इरादे से इन  पाकिस्‍तानी हिंदुओं के सोने को  सिर्फ 54 प्रतिशत शुद्ध यानी सरकारी कागजों में पूरा शुद्ध था ही नहीं। सही मायने में देखा जाए तो कस्‍टम अधिकारियों की मंशा यह थी कि जब वे  पाकिस्‍तानी हिंदुओं के सोने आभूषणों को नीलामी करेंगे तब  कीमत से मिले धन को आधा सरकारी खजाने में जमा कर देंगे और आधा स्‍वयं रख लेंगे क्‍योंकि सोना शुद्ध खरा था।  मगर उपरोक्‍त तीन पाकिस्‍तानी हिंदुओं के हितैषी बाबा नंद किशोर मिश्रा, पदम राम जांगीड़ व सरदार रविरंजन सिंह नें कस्‍टम विभाग के अधिकारियों के सारे खेल को बिगाड़ दिया।

और तो और सीमा शुल्‍क के अधिकारियों नें पाकिस्‍तानी हिंदुओं के ऊपर 70,000 हजार का जुर्माना भी लगाया था। बाद में जब सही जांच हुआ तब सीमा शुल्‍क कमेटी नें पाकिस्‍तानी हिंदुओं के  70,000 हजार रूपये को ब्‍याज सहित यानी कुल 84,000 रूपये वापस किया।

baba-wid-pak-hindu

pak-boy-wid-baba-ji

     इन पाकिस्‍तानी हिंदुओं के सहायता के लिए अखिल भारत हिन्‍दू महासभा के कार्यकारी अध्‍यक्ष पं बाबा नंद किशोर मिश्र, राष्‍ट्रीय  उपाध्‍यक्ष पदमाराम जांगीड़ व राष्‍ट्रीय कार्यालय मंत्री सरदार रविरंजन सिंह नें काफी सहायता की थी। पाकिस्‍तानी हिंदुओं नें भी उपरोक्‍त तीनों लोगों का हृदय से आभार जताया।

About Akhil Bharat Hindu Mahasabha