Home / सच्चाई / इस्लाम / झंडा फहराने से उलेमाओं ने रोका तो मुस्लिम युवक ने किया धर्म परिवर्तन

झंडा फहराने से उलेमाओं ने रोका तो मुस्लिम युवक ने किया धर्म परिवर्तन

लखीमपुर खीरी। उलेमाओं का तिरंगा न फहराने का फरमान एक मुस्लिम युवक को इतना नागवार गुजरा कि उसने धर्म परिवर्तन कर लिया। रफीक से सेवक राम बनने के बाद युवक ने शान से तिरंगा फहराया और राष्ट्रगान भी गाया। यह चौंकाने वाला मामला जिले के तहसील मितौली का है।

धर्म परिवर्तन करने वाले रफीक ने कहा कि ‘वह पहले हिन्दुस्तानी है फिर बाद में मुस्लिम या हिन्दू, जो धर्म देश का सम्मान नहीं करने देगा ऐसे धर्म का वे पालन नहीं कर सकते।’ उन्होंने कहा कि धर्म ज़ाति बाद में है पहले हम भारत के बेटे हैं।’

दरअसल उलेमाओ ने तिरंगा न फहराने को लेकर फतवा जारी किया था। जिसके बाद क्षेत्र के सभी मुस्लिम समुदाय के लोग तिरंगा से दूरी बना लिए। जिले के तहसील मितौली इलाके के पकरिया गांव के रहने वाले रफीक उलेमाओं की बात से इतना नाराज हुए कि उन्होंने मुस्लिम धर्म छोड़ दिया और हिन्दू धर्म अपना लिया।

रफीक बने सेवक राम

रफीक अब सेवक राम बने युवक ने कहा कि ‘हम ऐसे महजब में नहीं रहना चाहते जहां फतवे जारी किये जाते हो और वह भी देश भक्ति के खिलाफ।’ जब हिंदुस्तान में रहते हैं तो मदरसा में झंडा क्यों नहीं।

ग्राम प्रधान ने बताया कि उलेमाओं के फतवे से रफीक नाराज था और उसने धर्म परिवर्तन कर लिया। हिन्दू धर्म अपनाने के बाद सेवक राम ने ना सिर्फ शान से तिरंगा फहराया बल्कि राष्ट्रगान भी गया। सेवक राम की देशभक्ति को देखकर मुस्लिम समुदाय के लोग भी दंग हैं। फिलहाल अभी कोई कुछ बोलने को तैयार नहीं है।

Source : hindi.eenaduindia

About Akhil Bharat Hindu Mahasabha